In The Country Meadows (Micro-fiction)

In a world half glittering with flame, the country meadows bedabbled with the silent maiden showers of the silver dew, rang with a dreamy laughter of the opaline perches. Leaves sagged with the weight of the honeyed blobs; and the winds sighed for love on the fairy foams. Zephyrs juggled with a thousand rainbows with the swish of an intangible skirt on the pearled lands. A primrose, sweet as new, danced too.

Hindi Translation:

लौ से चमकती आधी ये दुनिया, हरित मैदानों में चुपके से बिखरती वो चाँदी नुमा ओस की बूँदें, शीश-टहनियों की स्वप्निल हँसी की गूँज. मधुरित रस-गेंदों से झुकते वो पत्ते, और हवाएँ सुनहरे बुलबुलों के प्रेम की आहें भरती. मोतीली जमीनों पर एक अमूर्त साये की सरसराहट में हजारों इंद्रधनुषों से किलकारियाँ करती बहारें. वो बसंती गुलाब, नयी सी मिठास के साथ, वो भी क्या खूब नाची.

(Thanks to Praveen sir for this beautiful translation. I’m completely blown away by his art.)

Advertisements

10 thoughts on “In The Country Meadows (Micro-fiction)”

  1. लौ से चमकती आधी ये दुनिया, हरित मैदानों में चुपके से बिखरती वो चाँदी नुमा ओस की बूँदें, शीश-टहनियों की स्वप्निल हँसी की गूँज. मधुरित रस-गेंदों से झुकते वो पत्ते, और हवाएँ सुनहरे बुलबुलों के प्रेम की आहें भरती. मोतीली जमीनों पर एक अमूर्त साये की सरसराहट में हजारों इंद्रधनुषों से किलकारियाँ करती बहारें. वो बसंती गुलाब, नयी सी मिठास के साथ, वो भी क्या खूब नाची.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s